2 line shayari on Duniya Matalabi Log, Two Line Matalabi Log Duniya Shayari, Matalabi Log Duniya Shayari, Matalabi Log Duniya Shayari, Zalim Duniya Shayari, Matalabi Log Duniya Shayari in Hindi,Shayari on Duniya Wale, Shero Shayari Ki Duniya, Shayari Ki Duniya Hindi Me, Meri Duniya Shayari,
Matalabi Log Duniya Shayari Two Line Shayari

Matalabi Shayari Duniya Shayari: 2 line shayari on Matalabi Log, Two Line Matalabi Log Duniya Shayari, Matalabi Log Duniya Shayari, Matalabi Log Duniya Shayari

Zalim Duniya Shayari, Matalabi Log Duniya Shayari in Hindi,Shayari on Duniya Wale, Shero Shayari Ki Duniya, Shayari Ki Duniya Hindi Me, Meri Duniya Shayari,


Best Two Line Matalabi Log Duniya Shayari


Matalabi Log Duniya Shayari - Best Matalabi Log Duniya Two Line Shayari: Duniya sad shayari, 2 Line Duniya Shayari, Matalabi Log Very Sad 2 Line Duniya Shayari

Duniya Phool Shayari in Two Lines, Two Line Matalabi Log Duniya Shayari On Shahar, 2 Lines Duniya Naraz Shayari, Matalabi Log Best Two Line Duniya Shayari ever.


Matalabi Log Duniya Sad Shayari - Best Matalabi Log Duniya Two Line Shayari: Matalabi Log Duniya sad shayari, Matalabi Log 2 Line Shayari, Very Sad 2 Line Shayari, Phool Shayari in Two Lines, Matalabi Log Two Line Shayari On Shahar, Matalabi Log 2 Lines Naraz Shayari, Best Two Line Shayari ever.
Matalabi Log Duniya Shayari Two Line Shayari


दुनिया वाले भी अलग तासीर रखते है ,
मुँह में प्यार, मन में सवाल रखते है !

→→→→→→→→→→→→→→→

Duniya Wale Bhi Alag Tasiir Rakhte Hai,
Muh Main Pyaar, Man Main Sawaal Rakhte Hai !

                                                    →→→→→→→→→→→→→→→

आज भी बुरी क्या है कल भी ये बुरी क्या थी
इस का नाम दुनिया है ये बदलती रहती है
- एजाज़ सिद्दीक़ी

→→→→→→→→→→→→→→→

बदल रहे हैं ज़माने के रंग क्या क्या देख
नज़र उठा कि ये दुनिया है देखने के लिए
- आफ़ताब हुसैन

→→→→→→→→→→→→→→→→

बहुत मुश्किल है दुनिया का सँवरना
तेरी ज़ुल्फ़ों का पेच-ओ-ख़म नहीं है
- असरार-उल-हक़ मजाज़

→→→→→→→→→→→→→→→

बेहतर तो है यही कि न दुनिया से दिल लगे
पर क्या करें जो काम न बे-दिल-लगी चले
- शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

→→→→→→→→→→→→→→→→

भूल शायद बहुत बड़ी कर ली
दिल ने दुनिया से दोस्ती कर ली
- बशीर बद्र

→→→→→→→→→→→→→→→→

चले तो पाँव के नीचे कुचल गई कोई शय
नशे की झोंक में देखा नहीं कि दुनिया है
- शहाब जाफ़री

→→→→→→→→→→→→→→→

दिल कभी ख़्वाब के पीछे कभी दुनिया की तरफ़
एक ने अज्र दिया एक ने उजरत नहीं दी
- इफ़्तिख़ार आरिफ़

→→→→→→→→→→→→→→→→

Matalabi LogZalim duniya shayari, Matalabi Log Duniya Shayari in Hindi, Matalabi Log, Matalabi Log Duniya shayari In Urdu, 

Matalabi Log Duniya shayari In English, Shayari on duniya Wale, Hindi Shayari, Sapno Ki Duniya Shayari in Hindi, Matalabi Log Kamini duniya shayari


दुनिया बदल रही है ज़माने के साथ साथ
अब रोज़ रोज़ देखने वाला कहाँ से लाएँ
- इफ़्तिख़ार आरिफ़

→→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया बहुत ख़राब है जा-ए-गुज़र नहीं
बिस्तर उठाओ रहने के क़ाबिल ये घर नहीं
- लाला माधव राम जौहर

→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया बस इस से और ज़ियादा नहीं है कुछ
कुछ रोज़ हैं गुज़ारने और कुछ गुज़र गए
- हकीम मोहम्मद अजमल ख़ाँ शैदा

→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया है सँभल के दिल लगाना
यहां लोग अजब अजब मिलेंगे
- मीर हसन

→→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया जिसे कहते हैं जादू का खिलौना है
मिल जाए तो मिट्टी है खो जाए तो सोना है
- निदा फ़ाज़ली

→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया की महफ़िलों से उकता गया हूँ या रब
क्या लुत्फ़ अंजुमन का जब दिल ही बुझ गया हो
- अल्लामा इक़बाल

→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया में हम रहे तो कई दिन पर इस तरह
दुश्मन के घर में जैसे कोई मेहमाँ रहे
- क़ाएम चाँदपुरी

→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ
- अकबर इलाहाबादी

→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया ने किस का राह-ए-फ़ना में दिया है साथ
तुम भी चले चलो यूँही जब तक चली चले
- शेख़ इब्राहीम ज़ौक़

→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया ने तजरबात ओ हवादिस की शक्ल में
जो कुछ मुझे दिया है वो लौटा रहा हूँ मैं
- साहिर लुधियानवी

→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया पसंद आने लगी दिल को अब बहुत
समझो कि अब ये बाग़ भी मुरझाने वाला है
- जमाल एहसानी

→→→→→→→→→→→→→→→→

दुनिया तो चाहती है यूँही फ़ासले रहें
दुनिया के मश्वरों पे न जा उस गली में चल
- हबीब जालिब

→→→→→→→→→→→→→→→→

गाँव की आँख से बस्ती की नज़र से देखा
एक ही रंग है दुनिया को जिधर से देखा
- असद बदायुनी

→→→→→→→→→→→→→→→→

मसला यह भी है इस ज़ालिम दुनिया का ..
कोई अगर अच्छा भी है तो वो अच्छा क्यॅ है..

→→→→→→→→→→→→→→→→→

आज गुमनाम हूँ तो ज़रा फासला रख मुझसे..
कल फिर मशहूर हो जाऊँ तो कोई रिश्ता निकाल लेना..

→→→→→→→→→→→→→→→

देख के दुनिया अब हम भी बदलेंगे मिजाज़
रिश्ता सब से होगा लेकिन वास्ता किसी से नहीं

→→→→→→→→→→→→→→

न जाने कैसी नज़र लगी है ज़माने की
अब वजह नहीं मिलती मुस्कुराने की

→→→→→→→→→→→→→→→

मेरी तारीफ करे या मुझे बदनाम करे,
जिसने जो बात करनी है सर-ए-आम करे

→→→→→→→→→→→→→→→→

मुझको क्या हक, मैं किसी को मतलबी कहूँ..
मैं खुद ही ख़ुदा को, मुसीबत में याद करता हूँ !

→→→→→→→→→→→→→→→

ढूॅढना ही है तो परवाह करने वालों को ढॅूढ़ीये साहेब…
इस्तेमाल करने वाले तो ख़द ही आपको ढॅूढ़ लेंगे…

→→→→→→→→→→→→→→→→

इंसान की अच्छाई पर सब खामोश रहते हैं
चर्चा अगर उसकी बुराई पर हो, तो गूॅगे भी बोल पङते हैं

→→→→→→→→→→→→→→→

कुछ यूँ हुआ कि.जब भी जरुरत पड़ी मुझे
हर शख्स इतेफाक से.मजबूर हो गया !!

→→→→→→→→→→→→→→

मुखौटे बचपन में देखे थे मेले में टंगे हुए
समझ बढ़ी तो देखा लोगों पे है चढ़े हुऐ

→→→→→→→→→→→→→→→

भुला देंगे तुम्हे भी जरा सब्र तो कीजिए
आपकी तरह मतलबी होने में जरा वक्त लगेगा !!

→→→→→→→→→→→→→→→→

Matalabi Log Duniya Sad Shayari - Best Matalabi Log Duniya Two Line Shayari: Matalabi Log Duniya sad shayari, Matalabi Log 2 Line Shayari, Very Sad 2 Line Shayari,

Phool Shayari in Two Lines, Matalabi Log Two Line Duniya Shayari On Shahar, Matalabi Log 2 Lines Naraz Shayari, Best Two Line Shayari ever.
Previous Post Next Post